भूतिया बिरला हाउस की व्याख्या
जानकीचट्टी | उत्तराखंड | भारत

भूतिया बिरला हाउस की व्याख्या

यमुनोत्री वापसी के बाद यमुनोत्री धाम से लौटने के बाद सीधा बिरला हाउस ही आ पहुंचा। धूप तेज है इसलिए यहीं आगन में बैठ कर धूप की सिकाई में मस्त हो गया हूँ। थकान के कारण हालत पस्त है। लवली भैया से एक और रात की मोहल्लत मांगते हुए रुकने का प्रस्ताव रखा। जिसे उन्होंने…