All posts tagged: गंगोत्री

कैमरे वाला बैग जब छूटा रेस्त्रां में

निकलने की तैयारी खाना पीना करने के बाद निकलने की बारी है। उत्तरकाशी ज्यादा दूर भी नहीं है और साधन भी बहुत से मिल जाते हैं इसलिए भी इत्मीनान से सारे काम कर रहा हूँ। खाने में वैसे तो एक ही पराठा ऑर्डर किया था। मगर पराठा इतना लज़ीज़ था एक और चट कर गया। और भूख भी जोरों पर थी। अब लग रहा है पेट में कुछ गया है। बाज़ार खूब जमी है गंगोत्री में जिसकी धूम है। खरीदने वाले खरीद भी रहे हैं। पर मुझे ऐसा लगता है ये आपके ही शहर से लाया हुआ समान आपको दुगने दाम में बेंचते हैं। भीड़ भाड़ वाले इस इलाके में इस कदर भी भीड़ नहीं है। मगर पूरे गंगोत्री का आकर्षण का केंद्र है गंगा मैया का वेग। जिसे कोई एक बार निहारे तो नज़रे ही ना हटा सके। एक दुकान से निरंतर भजन की गूंज सुनाई दे रही है। जो कि मंत्रमुग्ध कर रहा है। चलते फिरते टैक्सी स्टैंड आ पहुंचा। बस की समय सारिणी पता कि तो मालूम पड़ा दो बजे तक बस …

गंगोत्री धाम में माँ गंगा के दर्शन

कल रात की मशक्कत का फल कल रात ग्लास हाउस में सोने की अनुमति तो मिल गई थी। पर समस्या आ रही थी कि इन दो बड़े बड़े बैग का क्या किया जाए। और मोबाइल और जूते कहाँ रखे जाएं। ऐसे में यही तरकीब सूझी की जूते और मोबाइल को स्लीपिंग बैग में डाल कर सो लिया जाएगा। और दोनों बैग की बद्धी को एक दूसरे से बांध कर उसमें चेन बांध दी जायगी। और उसी बैग को सिरहाने रख कर सो लिया जाएगा। यही तरकीब सही लगी और यही आजमाया भी। मोबाइल और जूते को पन्नी में लपेट कर स्लीपिंग में पैर के पास डाल लिया। और बैग को चेन से बांधकर उसी पर लदकर सो गया। सुबह हुई तो सारा सामान जहाँ का तहाँ मिला। कुछ भी चोरी नहीं हुआ। ग्लास हाउस में दरी बिछाकर और भी लोग सोए थे। उनमें से कुछ तड़के ही निकल लिए थे। कुछ अभी भी से ही रहे हैं। इस बात से बखूबी मुखातिब था की जितनी जल्दी कतार में खड़ा हो जाऊंगा उतनी जल्दी मंदिर में …

ग्लास हाउस में गुज़ारी रात

बस पकड़ने की फ़िक्र सुबह के चार बजे का अलार्म बजा और तड़के ही नींद खुल गई। रात में हुए वाक्ए के बाद अब लग रहा है जितनी जल्दी हो सके भागो यहाँ से। पता नहीं लवली भाई के मुख से सुने किस्से के बाद कैसे नींद आ गई। पर आधी रात में ऐसा किसी के साथ भी ना हो। फटाफट बिस्तर समेटा और सारा बिखरा हुआ समान बैग में भरने लगा। अजय के नित्य क्रिया पर जाने के बाद मैंने कमरे में बिखरा सारा सामान इक्कठा कर के बैग में भरा। गद्दे पर बिछे चद्दर को भी तय कर के बैग में डाला। बस के निकलने का समय तो छह बजे बताया है कंडक्टर महाशय ने। मुझे पहुचनें में ही शायद आधा घंटा लग जाए। अभी साढ़े चार बज रहे हैं। हर हालत में मुझे आधे घंटे पहले पहुंच जाना है। अजय के आ जाने के बाद अंधेरी सुबह में मैं निकल पड़ा कुल्ला मंजन करने। और बमुश्किल कुछ मिनटों में सब निपटा कर आ गया कमरे में। इधर अजय एकदम तैयार बैठा है। …