All posts filed under: मैकलोडगंज

मैकलोडगंज में सजी संगीत की महफ़िल

अमृतसर से जम्मू तवी से कुछ घंटे के सफर में रात के तीन बजे तक पठानकोट पहुंचा। ट्रेन अपने समय से स्टेशन आई है। उठने में थोड़ी चूक हो गई। लोअर बर्थ पर रखे चश्मे पर उठते समय मेरा हांथ पड़ते ही चश्मे का नाश हो गया। अब बाकी बचे दौरे में मैं नज़र वाला चश्मा पहनने से वंचित रेह जाऊंगा। फिलहाल तो मैकलोडगंज पहुंचने पर ध्यान है। ट्रेन के रुकते ही सारा सामान लेकर स्टेशन पर कूद पड़ा। स्टेशन पर पसरा सन्नाटा डरावना तो नहीं है। पठानकोट पर हुआ अतंकी हमला कुछ दिनों पहले तक चर्चा का विषय बना हुआ था। प्लेटफार्म संख्या एक से बाहर निकलते निकलते चार बज गए। इतना वजन टांग कर चलने के बाद आंखो से नींद ओझल हो चुकी है। बस का इंतज़ार अगली चुनौती है धर्मशाला पहुंचने की। इतनी भोर में धर्मशाला के लिए बस कहाँ से मिलेगी ये पूछते पूछते स्टेशन के बाहर कुछ लोगों ने सहायता करने की मंशा से मार्गदर्शन किया। स्टेशन के ठीक सामने खड़े रहने का सुझाव दिया, हालांकि उनके मुताबिक बस अड्डा …