All posts filed under: कामाख्या

ब्रह्मांड का गर्भ कामाख्या देवी मंदिर

स्वच्छ गुवाहाटी आज कामाख्या देवी मंदिर जाने की योजना है। फिर वहीं से शिलोंग। पर अभी प्रशांत जी के घर में आंख खुली है। कुछ हलचल तो है घर में। जैसा प्रशांत जी ने कल बताया था सुबह वो भी निकल जाएंगे अपने कार्यालय शायद उसी की तैयारी में जुटे हुए हैं। जमीन पर ही बिछे गद्दों पर चैन की नींद ली। मखमली बिस्तर का भी कोई मुकाबला नहीं है जमीन पर लगे बिस्तर से। जमीन से जुड़े लोग ये बात समझ सकते हैं। नींद टूटी तो मैं भी उठकर तैयारी करने लगा निकलने की। इच्छा तो है एक दिन और रुकने की पर ऐसा करने पर शायद बाकी के जगहों के लिए देरी भी हो सकती है। घर के सामने का नजारा तो बहुत ही लाजवाब है। खासतौर पर ये दाहिने हिस्से पर बसी पहाड़ी। प्रशांत जी ने कभी चढ़ाई तो नहीं कि पर वो जरूर इस जगह पर जाना चाहेंगे। इनके घर में सुबह तो बहुत ही कमाल की होती है। बताते है प्रदूषण पहले के मुकाबले यहाँ भी बढ़ गया है। जिस …