1857 की क्रांति में कानपुर का योगदान
कानपुर

1857 की क्रांति में कानपुर का योगदान

अँग्रेजों के खिलाफ बिगुल  बिठूर के महल से स्वतंत्रता आंदोलन की चिंगारी फूट रही है। मराठा क्रांतिकारियों के साथ बिठूर के रमेल नगर के मल्लाह इस आजादी की जंग में नाना साहब का साथ देने को तत्पर हैं। नाना साहब की दहाड़ पर कानपुर ही नहीं बल्कि आसपास की रियासतें भी एक जुट हो गईं…