चार धाम में से एक बद्रीनाथ
बद्रीनाथ | उत्तराखंड | चारधाम | चारधाम यात्रा | धार्मिक स्थल | भारत दर्शन

चार धाम में से एक बद्रीनाथ

मंदिर जाने की तैयारी कल दिनभर की थकान रातभर इस होटल में सो कर गुजारी। हंसमुख और गजेन्द्र भाई का साथ है इसलिए होटल ले लिया। ना होता तो शायद किसी आश्रम में ठहरता। ऐसे धामों में आश्रम में रुकने का मज़ा ही अलग होता है। ये ज्ञात है कि मंदिर में जितनी जल्दी पहुंच…

कैलाश के सबसे निकट केदारनाथ
उत्तराखंड | केदारनाथ | चारधाम यात्रा | ज्योतिर्लिंग | ट्रैकिंग और हाईकिंग | धार्मिक स्थल | भारत दर्शन

कैलाश के सबसे निकट केदारनाथ

खुसुर फुसुर मेरे तंबू के पास कुछ सुगबुगाहट हो रही है। कोई तो आदमी खड़ा हो कर तंबू के बारे में बात किए जा रहा है। इन्हीं जनाब की आवाज़ सुन कर मेरी निद्रा भंग हुई। साथ ही आसपास में कुछ और लड़कों की भी आवाज़ आ रही है। ये कहाँ से आ रही है…

गंगोत्री धाम में माँ गंगा के दर्शन
गंगोत्री | उत्तराखंड | चारधाम यात्रा | धार्मिक स्थल | भारत दर्शन

गंगोत्री धाम में माँ गंगा के दर्शन

कल रात की मशक्कत का फल कल रात ग्लास हाउस में सोने की अनुमति तो मिल गई थी। पर समस्या आ रही थी कि इन दो बड़े बड़े बैग का क्या किया जाए। और मोबाइल और जूते कहाँ रखे जाएं। ऐसे में यही तरकीब सूझी की जूते और मोबाइल को स्लीपिंग बैग में डाल कर…

यमुनोत्री की खड़ी चढाई में पस्त
चारधाम यात्रा | उत्तराखंड | ट्रैकिंग और हाईकिंग | धार्मिक स्थल | भारत दर्शन | यमुनोत्री

यमुनोत्री की खड़ी चढाई में पस्त

सन्नाटे में सुबह कल रात बिरला हाउस में पहले टेंट और फिर बाकायदा कमरे का मिलना वरदान साबित हुआ। खाली कमरे में गद्दे और रजाई पहले से मौजूद थी। जिसे बिछाकर सो गया था। दोनों बड़े बैग बड़ी सी खिड़की के पास की मेज़ के ऊपर ही रख दिए थे। आंख खुल चुकी है। बेहतर…