फटाफट हुए तिरुपति बालाजी के दर्शन
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | तिरुपति | भारत

फटाफट हुए तिरुपति बालाजी के दर्शन

तडिपत्रि से तिरुपति तड़के सुबह तीन बजे तिरुपति रेलवे स्टेशन आ पहुंचा। स्टेशन पर ऐसा सन्नाटा पसरा है जिसकी उम्मीद नहीं थी इस धार्मिक स्थल पर। दुकानें भी बंद, आवाजाही भी बंद। लोग सीट पर या फिर दुकान के बाहर सोते हुए देखे जा सकते हैं। दूर कहीं एक दुकान खुली दिख रही है। बैग…

एरिज़ोना का अंश गांडिकोटा घाटी
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | गांडिकोटा | भारत

एरिज़ोना का अंश गांडिकोटा घाटी

रेल परिसर शोर शराबे में नींद टूटी। आंख खुली तो पाया स्टेशन पर आए यात्री मुझे टकटकी बांधे देख रहे हैं और मैं खुद को। स्टेशन पर काफी हलचल है। जो कोई भी आ रहा है वो तम्बू को ऐसे देख रहा है जैसे अंधो में काना राजा। मैं बाहर ही सो रहा हूँ। ये…

बेलम गुफा जहाँ बहती है रहस्यमई पातालगंगा
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | बेलम | भारत

बेलम गुफा जहाँ बहती है रहस्यमई पातालगंगा

 नहीं मिला अमानती घर ज्योतिर्लिंग दर्शन के बाद कल रात्रि मरकापुर स्टेशन से जिस ट्रेन में मैं बैठा। उसने ठीक समय पर तडिपत्रि पहुंच गया। स्टेशन पर आवाजाही है पर भीड़ नहीं। थोड़ा वीराना जरूर लग रहा है स्टेशन मगर इक्का दुक्का दुकानें तो हैं ही। यहाँ इस गांव क्षेत्र में जो देखना आया हूँ…

जंगल के मध्य में मल्लिकार्जुन
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | ज्योतिर्लिंग | धार्मिक स्थल | भारत | मारकपुर रोड

जंगल के मध्य में मल्लिकार्जुन

मरकापुर रोड स्टेशन ये मान के चल रहा था कि ट्रेन देरी से पहुंचेगी। लेकिन तीन घंटा की देरी होगी ये नहीं पता था। रात्रि के तीन बजे नींद खुली तो देखा मारकापुर पहुंचने का समय तीन के बजाए सुबह के छह बजे हो गया है। भारतीय रेलवे पर पूरा भरोसा है। जितना बताया है…

हैदराबाद की पहचान चारमीनार
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत | हैदराबाद

हैदराबाद की पहचान चारमीनार

संग्रहालय से चारमीनार संग्रहालय से पैदल ही निकल पड़ा चारमीनार के लिए। ज्यादा नहीं बस कुछ एक किमी ही दूर है चारमीनार। भीड़ जमकर है। बाजार में पैदल चलना भी आफत है। कुछ आधे घंटे के भीतर मैं चारमीनार के बाहरी मीनार वाले हिस्से में आ गया। यहाँ छोटी मीनार है जो चारमीनार को छुपा…

दुनिया के सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक सालारजंग
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत

दुनिया के सबसे बड़े संग्रहालयों में से एक सालारजंग

मंदिर मंदिर दर्शन कन्हैया जी ने आज सुबह जल्दी आने का आग्रह किया था। फिर भी निकलते हुए थोड़ी देर हो ही गई। फटाफट तैयार होकर बुलाई हुई जगह पर पहुंच गया। रात बहुत ही अच्छी बीती और नींद भी गजब की आई। मुलाकात के बाद अंकल अपने दुपहिया वाहन में मुझे एक मंदिर से…

भारत का दूसरा सबसे बड़ा गोलकोण्डा किला
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत | हैदराबाद

भारत का दूसरा सबसे बड़ा गोलकोण्डा किला

एक सिरे से दूसरे सिरे तक पवन जी आज भोर में ही मुंबई के लिए उड़ान भर चुके हैं। उनके जाने के बाद उनकी पत्नी भी निकल गईं। लेकिन आज मेरी इनमे से किसी से भी मुलाकात ना हो सकी। सुबह भनक तक ना लगी इनके निकलने की। दरवाजा खोल कर देखा तो एक कामवाली…

हज़ार स्तम्भ मंदिर और वारंगल किला
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत | वारंगल

हज़ार स्तम्भ मंदिर और वारंगल किला

भेदभाव थकान और रात भर चली आंख मिचोली में नींद पूरी न हो सकी।  सरकारी काम वाली बाई के जगाने पर नींद टूटी। घड़ी में सुबह के छह बज रहे हैं। एहसाह हुआ पर्यटन के लिए निकलना भी है। फर्श पर से अपनी अंग्रेजी चटाई एयर स्लीपिंग बैग उठाकर बेंच पर रख दी। रात भर…

अमरावती की उंडावली गुफाएं
अमरावती | आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत

अमरावती की उंडावली गुफाएं

घर से निकलते ही रात की मौज मस्ती कारण ना बन सकी देर से उठने की। सुबह जल्दी उठ गया। अमरावती में उंडावली गुफाएं बहुत प्रसिद्ध हैं। जहाँ मैं जाना चाहूँगा। शहर का विभाजन कृष्णा नदी के ऊपर आधारित है। नदी के पूर्वी उत्तर भाग विजयवाड़ा कहलाता है। दक्षिण भाग अमरावती। विपुल मुझसे पहले ही…

आंध्र की नई राजधानी विजयवाड़ा
आंध्रप्रदेश व तेलंगाना | भारत | विजयवाड़ा

आंध्र की नई राजधानी विजयवाड़ा

इंतज़ार और सही  विशाखापट्टनम से निकलने का वक़्त आ चुका है। रात्रि यही सोच कर सोया था की सुबह जल्दी उठ कर सात बजे से पहले प्रवीण जी से मुलाकात हो जाएगी। नींद में ही जीने के दरवाजे की खटकने को आवाज से समझ गया की किसी ने रात को लगाई हुई कुण्डी खोल दी…